गर्मियो में लू से बचाव तथा इनके प्राथमिक उपचार के लिये आवश्यक सलाह / Seoni News

गर्मियो में लू से बचाव तथा इनके प्राथमिक उपचार के लिये आवश्यक सलाह / Seoni News


स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले की आम जनता को गर्मी में लू से बचाव और इनके प्राथमिक उपचार के लिए सलाह दी गई है। आम जनो को सीधी धूप से बचने एवं घरों में हवादार, ठंडे स्थान पर रहने के लिए कहा गया है। अत्यंत आवश्यक होने पर बाहर निकलने पर हल्के रंग के ढीले व पतले वस्त्रो का प्रयोग करने की सलाह दी गयी है। धूप मे जाने से पहले सिर को छाते, कपडे अथवा टोपी से ढंककर रखें । जूते- चप्पल तथा नजर के काले चश्मे का प्रयोग करें।
   घर से भोजन करके एवं पर्याप्त मात्रा में पानी पीकर ही बाहर निकले। पानी का अधिक मात्रा मे सेवन करें तथा प्यास लगने का इंतजार न करें। अधिक से अधिक पेय पदार्थ (नान अल्कोहॉलिक) जैसे नींबू पानी, लस्सी, छाछ, जलजीरा, आमपना, दही, नारियल पानी आदि का सेवन करें। फल तथा सब्जी जिनमें पानी की मात्रा अधिक होती है (तरबूज, खरबूज, खीरा, अनानास, संतरा, अंगूर आदि) का अधिक मात्रा में सेवन करें। शिशुओ तथा बच्चों, 60 वर्ष से अधिक आयु के महिला-पुरूषों, घर के बाहर काम करने वाले, मानसिक रोगियों तथा उच्च रक्तचाप वाले मरीजों का विशेष ध्यान रखें।
  बंद गाडी के अंदर का तापमान बाहर से अधिक होता है इसलिए कभी भी किसी को बंद, पार्किंग मे रखी गाड़ी में अकेला ना छोडें। अत्याधिक शारीरिक श्रम वाली गतिविधियां दिन के अधिकतम तापमान वाले घंटो में न करे। बहुत अधिक भीड, गर्म घुटन भरे कमरों, रेल, बस आदि की यात्रा गर्मी के मौसम में अत्यावश्यक होने पर ही करें ।
 यदि कोई व्यक्ति लू तापघात से प्रभावित होता है, तो उसका तत्काल उपचार करें। रोगी को तत्काल छायादार जगह पर कपड़े ढीले कर लिटा दे एवं हवा करें। रोगी को होश मे आने पर उसे ठण्डे पेय पदार्थ जीवन रक्षक घोल, कच्चा आम का पना आदि दें । प्याज का रस एवं जौ के आटे को भी ताप नियंत्रण हेतु शरीर पर मला जा सकता हैं। रोगी के शरीर का ताप कम करने के लिये यदि संभव हो ,तो उसे ठण्डे पानी से स्नान करायें या उसके शरीर पर ठण्डे पानी की पट्टियां रखकर पूरे शरीर को ढक दें । इस प्रक्रिया को तब तक दोहराए जब तक की शरीर का तापमान कम नहीं हो जाता है। समस्या ठीक न होने पर उसे तत्काल निकट के चिकित्सा संस्थान में लेकर उपचार करवाये।

Post a Comment

Previous Post Next Post