Madhyapradesh News : डायल 100 पर फोन करते ही पहुंचेंगे अफसर, घर बैठे दर्ज होगी कंप्लेन , जानिए क्या है योजना -

MadhyaPradesh News : 

Madhyapradesh News : डायल 100 पर फोन करते ही पहुंचेंगे अफसर, घर बैठे दर्ज होगी कंप्लेन


मध्य प्रदेश में रहने वाले लोगों को अब पुलिस थानों में जाकर एफआईआर दर्ज कराने की जरूरत नहीं होगी | आपको FIR के लिए थानों का चक्‍कर नहीं लगाना पड़ेगा | एमपी पुलिस ने अब एफआईआर दर्ज कराने के लिए नई योजना शुरू की है. आपको अब सिर्फ एक फोन कॉल करना होगा, इसके बाद पुलिस न केवल आपके घर आकर आपकी समस्‍या सुनेगी, बल्कि एफआईआर भी दर्ज करेगी. एफआइआर दर्ज होने के बाद पुलिस एफआईआर की कॉपी भी आपके घर पहुंचाकर जाएगी. मध्‍य प्रदेश पुलिस  ने 'डायल 100 - FIR आपके द्वार' नाम से एक योजना की शुरुआत की है | 

यह भी पढ़े -
Seoni Corona News : जिले में मिला पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज़ - सिवनी कलेक्टर

योजना के तहत, अपनी शिकायत को दर्ज कराने के लिए शिकायतकर्ता को सिर्फ 100 नंबर डायल करना होगा.यह नंबर पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना देनी है. पुलिस कंट्रोल रूम आपके कॉल से संबंधित सूचना तत्‍काल संबंधित पुलिस स्‍टेशन को देगा. वहीं, पुलिस स्‍टेशन में ड्यूटी ऑफिसर के पद पर तैनात अधिकारी तत्‍काल आपके कॉल के लिए एक पुलिस अधिकारी को तैनात कर देंगे. यह अधिकारी आपके घर पहुंचेगा और आपकी शिकायत लेगा. एफआईआर दर्ज होने के बाद वह आपको एफआईआर की कॉपी भी मुहैया कराएगा |



योजना के तहत हर जोन से दो थानों का चयन किया जायेगा ,
मध्‍य प्रदेश पुलिस के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, फिलहाल इस योजना के पायलट प्रोजेक्‍ट की शुरुआत की गई है. पायलट प्रोजेक्‍ट के तहत, मध्‍य प्रदेश के जोन मुख्‍यालय से दो पुलिस स्‍टेशन का चयन किया गया है. इनमें एक पुलिस स्‍टेशन शहरी इलाके का है, वहीं दूसरा पुलिस स्‍टेशन ग्रामीण इलाके का है. इस योजना के तहत, जिन पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है, उन्‍हें लैपटॉप सहित दूसरे जरूरी उपकरण भी उपलब्‍ध कराए गए हैं |
जबलपुर में इस योजना की शुरुआत आज से हो गई है । योजना की शुरुआत करने के लिए एफआरवी वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया. योजना के प्रथम चरण में जबलपुर शहरी सीमा के सिविल लाइन्स और ग्रामीण इलाके स्थिति पनागर थाने को शामिल किया गया है. इस मौके पर आईजी भगवत सिंह चौहान ने बताया कि योजना के द्वारा घर बैठे लोग अपनी शिकायत दर्ज करवा सकेंगे. एफआईआर दर्ज होने के बाद उसकी कॉपी शिकायतकर्ताओं को उनके घर पर उपलब्ध कराई जा सकेगी ।

Post a Comment

Previous Post Next Post